राजाधिराज श्री राम का राज्याभिषेक

adminkeen
2 Min Read

श्रीमन्मार्ताण्डवंशे दशरथनृपतेरात्मजत्वं प्रपन्नः
साकं शेषारिसङ्गैर्निशिचरनिवहं संहरिष्यन् सुरार्थे ।

गुर्वादेशेन हत्वा पथि रजनिचरीं प्राप्य सिद्धाश्रमं यः
चक्रे यज्ञस्य रक्षां स दिशतु भगवान् मङ्गलं रामचन्द्रः ॥

श्री रामलला जी दिव्य आभूषणों और वस्त्रों से सज्ज होकर विराजमान हैं।

इन दिव्य आभूषणों का निर्माण अध्यात्म रामायण, श्रीमद्वाल्मीकि रामायण, श्रीरामचरिमानस तथा आलवन्दार स्तोत्र के अध्ययन और उनमें वर्णित श्रीराम की शास्त्रसम्मत शोभा के अनुरूप शोध और अध्ययन के उपरान्त किया गया है।

इस शोध के अनुरूप श्री यतींद्र मिश्र की परिकल्पना और निर्देशन से, इन आभूषणों का निर्माण श्री अंकुर आनन्द की संस्थान हरसहायमल श्यामलाल ज्वैलर्स, लखनऊ ने किया है।

भगवान बनारसी वस्त्र की पीताम्बर धोती तथा लाल रंग के पटुके / अंगवस्त्रम में सुशोभित हैं। इन वस्त्रों पर शुद्ध स्वर्ण की ज़री और तारों से काम किया गया है, जिनमें वैष्णव मंगल चिन्ह- शंख, पद्म, चक्र और मयूर अंकित हैं।

रामो विग्रहवान् धर्मः साधुः सत्यपराक्रमः।
राजा सर्वस्य लोकस्य देवानामिव वासवः।।
(अरण्यकाण्डम् , श्रीमद् वाल्मीकीरामायणम्)

राम जब लंका से अयोध्या लौटे तब दीपोत्सव मनाया गया था। आज हजारों वर्ष बाद पुनः दीपावली जैसा पर्व मनाने वाली पीढ़ी में होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है हमें।

अयोध्या राम मंदिर: मुख्य तथ्य

वास्तुकलानागर वास्तुकला शैली
निर्माण की देखरेख करने वाली एजेंसीश्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट
बिल्डर्सलार्सन एंड टुब्रो, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज
डिजाइनरचंद्रकांत भाई सोमपुरा
पूर्ण होने का वर्ष2024
उद्घाटन की तिथि22 जनवरी 2024
क्षेत्रफल2.7 एकड़
नींव14 मीटर मोटी
प्लिंथ21 फुट ऊंचा
मंजिल3
लंबाई380 फुट
चौड़ाई235 फुट
ऊंचाई161 फुट
मंदिर के गर्भगृह का आकारअष्टकोणीय
संरचना परिधि का आकारगोलाकार
मंदिर में प्रयुक्त सामग्रीसफेद राजस्थान मकराना संगमरमर
चार्माउथी बलुआ पत्थर
राजस्थान के बंसी पहाड़पुर से गुलाबी बलुआ पत्थर
उत्तर प्रदेश से पीतल के बर्तन
महाराष्ट्र से पॉलिश की गई सागौन की लकड़ी 
मंडपों की संख्या5
मंडपों के नामनृत्य मंडप, रंग मंडप, सभा मंडप, प्रार्थना मंडप, कीर्तन मंडप
स्तम्भों की संख्या392
दरवाजों की संख्या44
रामलला की नई मूर्ति का साइज51 इंच
रामलला की मूर्ति के लिए प्रयुक्त सामग्रीकाला पत्थर
रामलला की मूर्ति के डिजाइनरअरुण योगीराज
अनुमानित लागत1,400 करोड़ रुपये से 1,800 करोड़ रुपये के बीच.
श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट 
Share This Article